चक्रवाती तूफान ‘बुरेवी’


भारतीय मौसम विभाग ने 30 नवंबर से 5 दिसम्बर, 2020 के दौरान बंगाल की खाड़ी के ऊपर बने चक्रवाती तूफान ‘बुरेवी’ पर रिपोर्ट जारी की।

  • चक्रवाती तूफान 'बुरेवी' की शुरुआत दक्षिण अंडमान सागर, बंगाल की दक्षिण-पूर्वी खाड़ी के निकटवर्ती क्षेत्रों और हिंद महासागर के भूमध्यवर्ती क्षेत्रों में 28 नवंबर को कम दबाव के क्षेत्र के रूप में हुई।
  • इसके कारण तमिलनाडु के कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा (20 सेमी) जबकि अलग-थलग स्थानों पर भारी वर्षा दर्ज की गई। इसके अलावा इसने केरल और श्रीलंका को भी प्रभावित किया।
  • इसे 'बुरेवी' नाम मालदीव द्वारा दिया गया है, जिसका अर्थ है काले मैंग्रोव।

अत्यधिक गंभीर चक्रवाती तूफान ‘निवार’


25-26 नवंबर, 2020 को दक्षिण-पश्चिम बंगाल की खाड़ी के ऊपर बने एक बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान ‘निवार’ ने तटीय राज्यों तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और पुडुचेरी को प्रभावित किया।

  • चक्रवात 'निवार' इस वर्ष उत्तर हिंद महासागर क्षेत्र में आकार लेने वाला चौथा चक्रवात था। पहले तीन चक्रवात थे चक्रवात 'गति' (22 नवंबर को सोमालिया में), चक्रवात 'अम्फान' (मई में पूर्वी भारत में) और चक्रवात 'निसर्ग' (महाराष्ट्र में)।
  • 2018 में चक्रवात गाजा के बाद दो साल में तमिलनाडु को प्रभावित करने वाला 'निवार' दूसरा चक्रवात था।

नामकरण: विश्व मौसम विज्ञान संगठन (डब्लूएमओ) के दिशा-निर्देशों के आधार पर चक्रवात को 'निवार' नाम दिया गया है।

  • उत्तर हिंद महासागर क्षेत्र बंगाल की खाड़ी और अरब सागर के ऊपर बने उष्णकटिबंधीय चक्रवातों को कवर करता है। इस क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले 13 देश बांग्लादेश, भारत, मालदीव, म्यांमार, ओमान, पाकिस्तान, श्रीलंका, थाईलैंड ईरान, कतर, सऊदी अरब, यूएई और यमन चक्रवातों के नाम सुझाते हैं। प्रत्येक देश चक्रवातों के लिए सूची में 13 नाम प्रदान करता है।
  • चक्रवात 'निवार' को ईरान द्वारा दिए गए नामों की सूची में से चुना गया है। ‘निसर्ग’ का नामकरण बांग्लादेश द्वारा किया गया, जबकि चक्रवात ‘गति' (Gati) नाम भारत ने दिया था।