उमंगोट नदी पर पनबिजली परियोजना का विरोध


अप्रैल 2021 में मेघालय के कम से कम 12 गाँवों ने भारत की सबसे साफ नदी मानी जाने वाली उमंगोट पर 210 मेगावाट की पनबिजली परियोजना का भारी विरोध किया है।

  • ये गाँव ईस्ट खासी हिल्स जिले में बांग्लादेश की सीमा के पास स्थित हैं, लेकिन बांध नदी के उपरी क्षेत्र में वेस्ट जैंतिया हिल्स जिले के निकटवर्ती क्षेत्र में प्रस्तावित है।
  • यह परियोजना मेघालय ऊर्जा निगम लिमिटेड (MeECL) द्वारा निष्पादित की जानी है। बांध के कारण उमंगोट से सटे गांवों के लोगों की 296 हेक्टेयर जमीन डूब जाने की आशंका है।

उमंगोट नदी: नदी का पानी इतना साफ है कि नदी के तल पर नावों की छाया दिखने के अलावा इस पर नाव के चलने पर ऐसा लगता है कि मानो वह किसी कांच के पारदर्शी टुकड़े पर तैर रही हो।

  • यह नदी भारत-बांग्लादेश सीमा के पास वेस्ट जयंतिया हिल्स जिले के एक छोटे से लेकिन व्यस्त शहर दॉकी (Dawki) से होकर बहती है।
  • यह नदी रि पनार (जयंतिया हिल्स की) और हिमा खिरिम (खासी हिल्स की) के बीच की प्राकृतिक सीमा है, जिसके ऊपर एक एकल झूला पुल है।

डिस्क-फुटेड चमगादड़


अप्रैल 2021 में, मेघालय में बांस के वृक्षों पर रहने वाले भारत के पहले डिस्क-फुटेड (Disc-footed) चमगादड़ को देखा गया। थी। इस खोज के साथ, भारत में चमगादड़ की प्रजातियों की संख्या बढ़कर 130 हो गई।

  • ये बांस की टहनियों और शाखाओं के जोड़ पर अपने डिस्क (पंजों के आंतरिक भाग) से चिपककर रहते हैं।

  • इस डिस्क-फुटेड चमगादड़ (disk-footed bat) का वैज्ञानिक नाम ‘यूडिस्कोपस डेंटिकुलस’ (Eudiscopus denticulus) है।
  • म्यांमार के अपने निकटतम ज्ञात निवास स्थान से लगभग 1,000 किमी. पश्चिम में स्थित नोंगखिल्लेम वन्यजीव अभयारण्य (Nongkhyllem Wildlife Sanctuary) के निकट मेघालय के लाईलाड क्षेत्र (Lailad area) में डिस्क-फुट बैट को देखा गया।
  • अब तक ये प्रजाति दक्षिणी चीन, वियतनाम, थाईलैंड और म्यांमार में कुछ इलाकों में देखी गई थी। इस खोज के बाद मेघालय में चमगादडों की संख्या 66 हो गई है, जो भारत के किसी भी राज्य में सर्वाधिक है।

मेघालय में प्रति हजार गर्भवती महिलाओं में तीन महिलाएं एचआईवी पॉजिटिव


अप्रैल 2021 में महिला सशक्तिकरण पर विधान सभा समिति की रिपोर्ट के अनुसार राज्य में प्रति हजार गर्भवती महिलाओं में से तीन एचआईवी पॉजिटिव पाई गई।

  • इस समिति का नेतृत्व कांग्रेस विधायक अम्परेन लिंगदोह (Ampareen Lyngdoh) ने किया था।
  • समिति के अनुसार, मेघालय में एचआईवी / एड्स के पांच हजार से अधिक मामले हैं। राज्य में मामलों की संख्या खतरनाक रूप से बढ़ रही है।
  • पुलिस विभाग और समाज कल्याण विभाग के साथ की गई चर्चाओं के साथ, समिति ने पहचान की है कि व्यावसायिक यौनकर्मियों (commercial sex workers) के मुद्दे का समाधान करने की तत्काल आवश्यकता है।
  • समिति ने राज्य सरकार को एचआईवी / एड्स के मुद्दे के समाधान के लिए एक नीति बनाने का सुझाव दिया है।
  • समिति ने राज्य में गर्भवती महिलाओं में एचआईवी की अधिकता का पता लगाने के लिए एक अध्ययन कराने की सिफारिश की है।
  • पूर्वी खासी पहाड़ियों में यौनकर्मियों के बीच एचआईवी की व्यापक चिंता के कारण तत्काल कार्रवाई की जरूरत है।

चुनावों में सूचना प्रौद्योगिकी अनुप्रयोगों के लिए मेघालय को विशेष पुरस्कार


राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 25 जनवरी, 2021 को आयोजित राष्ट्रीय मतदाता दिवस पुरस्कार समारोह में मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय, मेघालय को राष्ट्रीय सर्वश्रेष्ठ चुनावी प्रथाओं के पुरस्कार 2020 में सूचना प्रौद्योगिकी अनुप्रयोगों के लिए एक विशेष पुरस्कार प्रदान किया।

  • मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय, मेघालय को यह पुरस्कार सम्पूर्ण नामांकन से चुनाव प्रक्रिया तक [Enrolment to Elections (E2E) process] निर्वाचक गतिविधियों में निरंतर और सुसंगत आईटी अनुप्रयोग प्रयासों और सभी श्रेणियों के मतदाताओं (दोनों सामान्य और दिव्यांग व्यक्तियों) के लाभ के लिए प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल के लिए दिया गया।

मेघालय एकीकृत परिवहन परियोजना


भारत सरकार, मेघालय सरकार और विश्व बैंक ने 19 नवंबर, 2020 को मेघालय राज्य के परिवहन क्षेत्र में सुधार और आधुनिकीकरण से संबंधित ‘मेघालय एकीकृत परिवहन परियोजना’ के लिए 120 मिलियन डॉलर का एक ऋण समझौता किया।

  • इस परियोजना से नवाचार, जलवायु के प्रति लचीले और प्रकृति आधारित समाधानों के इस्तेमाल के द्वारा 300 किमी. लंबे सामरिक मार्ग खंड और स्टैंडअलोन सेतुओं में सुधार किया जाएगा।
  • दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों और मुश्किल जलवायु परिस्थितियों के चलते मेघालय का परिवहन काफी चुनौतीपूर्ण है। वर्तमान में, राज्य की 5,362 बस्तियों में से आधी परिवहन संपर्क की कमी से जूझ रही हैं।
  • ऋण की परिपक्वता अवधि 6 साल की रियायत अवधि के साथ 14 साल होगी।