जूट उद्योग के विकास एवं संवर्धान पर रिपोर्ट

श्रम, वस्त्र एवं कौशल विकास संबंधी संसद की स्थायी समिति ने 7 फरवरी, 2024 को ‘जूट उद्योग के विकास एवं संवर्धन’ (Development and Promotion of Jute Industry) पर अपनी 53वीं रिपोर्ट संसद के दोनों सदनों में प्रस्तुत की।

  • रिपोर्ट में बताया गया है कि जूट मिलें प्रसंस्करण के बाद अपने विक्रय मूल्य से अधिक कीमत पर कच्चे जूट की खरीद करती हैं।
    • ऐसा इसलिए है क्योंकि किसान अक्सर मिल स्थानों से दूर स्थित होते हैं तथा लॉजिस्टिक चुनौतियों के कारण मिलें सीधे किसानों से कच्चा माल नहीं लेती हैं। इसके अतिरिक्त, खरीद प्रक्रिया में बिचौलिये या व्यापारी शामिल होते हैं, जिससे लागत ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |