आक्रामक पौधों की प्रजातियों एवं भारत की प्राकृतिक प्रणालियों

हाल ही में, जर्नल ऑफ एप्लाइड इकोलॉजी (Journal of Applied Ecology) में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, देश की लगभग 66% प्राकृतिक प्रणालियों (Natural Systems) को आक्रामक प्रजातियों (Invasive Species) से खतरा है।

अध्ययन के मुख्य निष्कर्ष

  • क्षेत्रगत विस्तार: भारत के 358,000 वर्ग किलोमीटर जंगली क्षेत्र में 158,000 भूखंडों पर विदेशी प्रजातियों का प्रसार पाया गया है।
  • उच्च चिंता वाले आक्रामक पौधे: देश के 20 राज्यों में उपस्थिति दर्शाने वाली 11 उच्च चिंता वाले आक्रामक पौधों (High-Concern Invasive Plant Species) की प्रजातियों में लैंटाना कैमारा (Lantana camara), प्रोसोपिस जूलीफ्लोरा (Prosopis juliflora) और क्रोमोलाएना ओडोरेटा (Chromolaena odorata) शामिल हैं।
  • आर्थिक हानि: इस ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी