समक्का सरलम्मा जतारा

हाल ही में, तेलंगाना राज्य के मुलुगु जिले में सम्मक्का-सरलम्मा जतारा का आयोजन किया गया। यह भारतीय राज्य तेलंगाना में मनाए जाने वाले विश्व के सबसे बड़े आदिवासी त्यौहारों में से एक है।

  • इस त्यौहार को मेदाराम जतारा के नाम से भी जाना जाता है, जो हर दो साल में आयोजित किया जाता है। इस त्यौहार में विभिन्न राज्यों से आए एक करोड़ से अधिक भक्त पूजा-अर्चना करते हैं और देवताओं को ‘बांगरम’ भेंट करते हैं।
  • आदिवासी मेला सम्मक्का और उनकी बेटी सरलम्मा के सम्मान में आयोजित किया जाता है। इन्होंने काकतीय राजवंश के उत्पीड़न से लड़ते हुए अपने ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |