​ISRO द्वारा तरल इंजन का परीक्षण

9 मई, 2024 को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने एडिटिव मैन्युफैक्चरिंग (Additive Manufacturing) तकनीक के माध्यम से निर्मित तरल रॉकेट इंजन का सफल परीक्षण किया। एडिटिव मैन्युफैक्चरिंग आमतौर पर 3डी प्रिंटिंग के रूप में जाना जाता है।

  • इस रॉकेट इंजन को ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान (PSLV) के ऊपरी चरण में प्रयोग किया गया है। इसरो द्वारा इस चरण मे पीएस 4 इंजन (PS4 Engine) का प्रयोग किया जाता है। इसरो ने पीएस4 इंजन को फिर से डिजाइन किया था तथा 3डी प्रिंटिंग का उपयोग करके इसका उत्पादन किया।
  • विनिर्माण प्रक्रिया में लेजर पाउडर बेड फ्रयूजन तकनीक (Laser powder Bed fusion- LPBF) ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |