पृथ्वी के चुंबकीय ध्रुवों का खिसकना

हाल ही में किए गए शोध से स्पष्ट हुआ है कि पृथ्वी के चुंबकीय ध्रुव (magnetic poles) खिसक रहे (shifting) हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार, यह हजारों वर्षों में होने वाली एक प्राकृतिक प्रक्रिया है

मुख्य विंदु

  • भूवैज्ञानिक रिकॉर्ड बताते हैं कि ग्रह के इतिहास में लगभग हर 200,000 से 300,000 वर्षों में ध्रुवों में परिवर्तन (reversals) की परिघटना होती है।
  • हाल ही में, उपग्रह अवलोकनों ने ग्रह के अंदर असामान्य रूप से तीव्र चुंबकीय क्षेत्रो (intense magnetice fields) के ‘ब्लॉब्स’ (blobs) का पता लगाया है, जो वर्तमान परिवर्तनों में योगदान दे रहे हैं।
  • उत्तरी ध्रुव 1990 के दशक में प्रति वर्ष लगभग ....

क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |