पंचायती राज संस्थाओं की वित्तीय स्थिति रिपोर्ट

हाल ही में, भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा ‘पंचायती राज संस्थाओं की वित्तीय स्थिति’ (Finances of Panchayati Raj Institutions) शीर्षक से एक रिपोर्ट जारी की गई है।

  • यह रिपोर्ट वर्ष 2020-21 से 2022-23 के बीच के आंकड़ों पर आधारित है। रिपोर्ट में 2.58 लाख पंचायतों के वित्त और भारत के सामाजिक-आर्थिक विकास में उनकी भूमिका का आकलन किया गया है।
  • रिपोर्ट के मुताबिक पंचायतों का औसत राजस्व वर्ष 2020-21 में 21.2 लाख, वर्ष 2021-22 में 23.2 लाख और वर्ष 2022-23 में 21.23 लाख रुपये था।
  • अध्ययन अवधि के दौरान पंचायतों का स्वयं का राजस्व उनके कुल राजस्व का केवल ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |
आर्थिक परिदृश्य