भारत में प्रतिपूरक वनरोपण महत्व, चुनौतियाँ एवं पहलें

हाल ही में, पूर्व सिविल सेवकों के एक समूह द्वारा सरकार को प्रतिपूरक वनरोपण (Compensatory Afforestation) और ग्रीन क्रेडिट के संबंध में लिखे गए एक ओपन लेटर में ग्रीन क्रेडिट के विविध प्रावधानों पर गंभीर चिंता व्यक्त की गई है। ग्रीन क्रेडिट का उपयोग वन भूमि पर प्रतिपूरक वनरोपण के लिए किया जा सकता है।

  • प्रतिपूरक वनरोपण के अंतर्गत गैर-वन उपयोगों, जैसे औद्योगिक या अवसंरचनात्मक परियोजनाओं आदि, के लिए वन भूमि विपथन के बदले पेड़ लगाना होता है।
    • भारत में प्रतिपूरक वनरोपण निधि अधिनियम 2016 (Compensatory Afforestation Fund Act 2016) के माध्यम से प्रतिपूरक वनरोपण को कानूनी आवश्यकता बना दिया गया ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |