भारत में औषधि क्षेत्र का विनियमन वर्तमान व्यवस्था, चुनौतियाँ एवं निहितार्थ

हाल ही में, वैश्विक दवा निर्माता कंपनी एस्ट्राजेनेका ने स्वीकार किया है कि उसकी कोविड-19 वैक्सीन दुर्लभ मामलों में दुष्प्रभाव पैदा कर सकती है। टीकाकरण के बाद इसके कारण थ्रोम्बोसिस विद थ्रोम्बोसाइटोपेनिया सिंड्रोम (Thrombosis with Thrombocytopenia Syndrome - TTS ) होने की संभावना होती है।

  • भारत में एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन कोविशील्ड ब्रांड नाम से बेची गई थी। भारत में इस वैक्सीन की 175 करोड़ खुराकें दी गई हैं, जिसका निर्माण पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा किया गया है। इस घटनाक्रम ने भारत में औषधि क्षेत्र के विनियमन की कमी पर प्रकाश डाला है।

भारत में औषधि क्षेत्र के विनियमन की ....

क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |