घरेलू शुद्ध वित्तीय बचत में गिरावट

हाल ही में, निवल घरेलू बचत (Net Household Saving) पर एक नवीन बहस देखने को मिली है। यह पाया गया है कि वित्तीय वर्ष 2022-23 के दौरान देश में संरचनात्मक बदलावों और ऋण लेने की अधिक मात्रा के कारण ‘सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की तुलना में निवल घरेलू वित्तीय बचत के अनुपात’ [Household Net Financial Savings to GDP Ratio] में गिरावट आई है।

  • सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के अनुपात में उच्च ऋण की प्रवृत्ति के कारण परिवारों को व्यापक पैमाने पर अधिक ब्याज भुगतान करना होता है, इससे परिवारों के वित्तीय संकट में वृद्धि होती है।
  • भारत के मुख्य आर्थिक सलाहकार डॉ. ....

क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |
आर्थिक परिदृश्य