जलवायु परिवर्तन : महिलाओं एवं बच्चों पर प्रभाव भेद्यताओं को दूर करने की तत्काल आवश्यकता - आलोक सिंह

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) के अनुसार, किसी आपदा के दौरान महिलाओं और बच्चों की मृत्यु की संभावना पुरुषों की तुलना में 14 गुना अधिक होती है। जलवायु परिवर्तन, मौजूदा भेद्यताओं एवं असमानताओं को बढ़ाता है, जिससे लैंगिक समानता को बढ़ावा देने, लोचशीलता बढ़ाने तथा महिलाओं एवं बच्चों के लिए सतत विकास सुनिश्चित करने हेतु तत्काल एवं लक्षित हस्तक्षेप की आवश्यकता महसूस होती है।

हाल ही में एम. एस. स्वामीनाथन रिसर्च फाउंडेशन द्वारा जलवायु परिवर्तन पर किये गए एक अध्ययन में यह पाया गया है कि बिहार, गुजरात, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल और तेलंगाना में महिलाएं ....

क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |