भारत में ठोस अपशिष्ट का कुप्रबंधन सार्वजनिक स्वास्थ्य एवं पर्यावरण के लिए गंभीर खतरा - संपादकीय डेस्क

ठोस अपशिष्ट प्रबंधन (Solid Waste Management) की प्रक्रिया में मानवीय गतिविधियों से उत्पन्न ठोस अपशिष्ट को एकत्रित करने, उपचारित करने, निपटान करने तथा पुनर्चक्रण करने की व्यवस्थित शृंखला को शामिल किया जाता है। कानूनी हितधारकों के बीच अस्पष्टता, जागरूकता की कमी तथा अनियमित विनियामकीय प्रवर्तन ठोस अपशिष्ट के कुशल प्रबंधन में प्रमुख बाधाएं हैं। प्रौद्योगिकी का उपयोग करके अपशिष्ट प्रबंधन प्रथाओं को सुव्यवस्थित किया जा सकता है। साथ ही, तकनीकी एवं आर्थिक घटकों के कुशल संयोजन से ठोस अपशिष्ट प्रबंधन की विधियों को टिकाऊ एवं व्यवहार्य बनाया जा सकता है।

क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |