'पलियार जनजाति' को विकास की मुख्यधारा से जोड़ने की आवश्यकता

हाल ही में तमिलनाडु के कोडाईकनाल और थेनी क्षेत्रों में ‘पलियार आदिवासियों' (Paliyar Tribes) पर किये गए एक अध्ययन से पता चला है कि इसके तहत कवर किये गए 36 गांवों में रहने वाले 1,173 परिवारों में से किसी को भी सरकारी नौकरी प्राप्त नहीं है।

  • इस अध्ययन को ‘लीगल एक्शन, एडवोकेसी एंड सर्विसेज (LAAS) सेंटर’ तथा ‘सेव द नेशन (Nattai Kappom) फेडरेशन’ द्वारा एक पुस्तक के रूप में जारी किया गया है।
  • अध्ययन में, राज्य सरकार से पलियार जनजातियों के साथ-साथ इसी प्रकार के अन्य आदिवासी समुदायों के उत्थान के लिए आवश्यक एवं तत्काल कदम उठाने का आग्रह किया गया ....

क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |