किशोरों के प्रारंभिक मूल्यांकन हेतु 3 माह की समय सीमा अनिवार्य नहीं: सुप्रीम कोर्ट

7 मई, 2024 को सर्वोच्च न्यायालय ने एक महत्वपूर्ण फैसले में कहा कि 'कानून का उल्लंघन करने वाले बच्चे पर वयस्क या किशोर के रूप में मुकदमा चलाया जाए या नहीं' इसके आकलन हेतु प्रारंभिक मूल्यांकन के लिए दी गई 3 माह की अवधि अनिवार्य नहीं है, बल्कि इसे केवल निर्देश के रूप में माना जाना चाहिए।

  • कानून का उल्लंघन करने वाले बच्चे का प्रारंभिक मूल्यांकन पूरा करने के लिए तीन महीने की अवधि का प्रावधान 'किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल एवं संरक्षण) अधिनियम, 2015' की धारा 14(3) के तहत किया गया है, जो इसी अधिनियम की धारा 15 के अंतर्गत ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |