भारत की राजकोषीय स्थिति पर इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च के अनुमान

  • 26 दिसंबर, 2023 को ‘इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च’ (India Ratings and Research) द्वारा जारी किए गए अनुमानों के अनुसार भारत का ‘राजकोषीय घाटा’ इस वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्पाद के 5.9% के लक्ष्य को पार करके 6% तक पहुंच सकता है।
  • ‘इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च’ ने इसके लिए अधिक राजस्व व्यय और नॉमिनल जीडीपी (Nominal GDP) के अनुमान से कम रहने को उत्तरदायी माना है।
  • राजकोषीय घाटा सरकार की कुल आय और कुल व्यय के बीच का अंतर होता है। इसी प्रकार, प्राथमिक घाटे को उधार हेतु ब्याज भुगतान और चालू वर्ष के राजकोषीय घाटे के बीच ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

PSC न्यूज बुलेट्स