भारतीय फार्माकोपिया

  • निकारागुआ भारतीय फार्माकोपिया (Indian Pharmacopoeid) को मान्यता देने वाला स्पेनिश भाषी दुनिया का पहला देश बन गया है।
  • भारत और निकारागुआ ने दवाओं के विनियमन के क्षेत्र में सहयोग पर एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं।
  • निकारागुआ की यह मान्यता भारतीय फार्माकोपिया (IP) मानकों में एक और उपलब्धि जोड़ती है, जिससे इसकी वैश्विक स्थिति और प्रभाव मजबूत हुआ है।
  • निकारागुआ से पहले पांच अन्य देश - अफगानिस्तान, घाना, नेपाल, मॉरीशस और सूरीनाम पहले ही औषधीय उत्पादों की गुणवत्ता और सुरक्षा सुनिश्चित करने में आईपी के महत्व को स्वीकार कर चुके हैं।
  • इंडियन फार्माकोपिया भारत में दवाओं के मानकों ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

PSC न्यूज बुलेट्स