​ट्राइकोग्लोसम स्यामविस्वनाथी

  • हाल ही में, वैज्ञानिकों ने केरल से एक नई कवक प्रजाति ‘ट्राइकोग्लोसम स्यामविस्वनाथी’ की खोज की है।
  • यह खोज केरल वन अनुसंधान संस्थान (KFRI), भारतीय वनस्पति सर्वेक्षण और हैदराबाद विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं द्वारा की गई है।
  • ट्राइकोग्लोसम स्यामविस्वनाथी, जिओग्लोसैसी अथवा एस्कोमाइकोटा (Geoglossaceae or Ascomycota) परिवार की एक कवक प्रजाति है। इस प्रजाति को मशरूम जैसे कई तंतुओं के कारण ‘बालों वाला केंचुआ’ (Hairy earthworm) भी कहा जाता ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

PSC न्यूज बुलेट्स