भारत में मादक पदार्थों की तस्करी

भारत में मादक पदार्थों(ड्रग्स) की तस्करी एक जटिल मुद्दा है जिसका दूरगामी सामाजिक, आर्थिक और स्वास्थ्य संबंधी प्रभाव पड़ता है।

  • भारत गोल्डन क्रिसेंट (अफगानिस्तान, ईरान और पाकिस्तान) और गोल्डन ट्रायंगल (म्यांमार, लाओस और थाईलैंड) से घिरा है जो दुनिया के दो सबसे बड़े अफ़ीम उत्पादक क्षेत्र हैं।
  • भारत की यह रणनीतिक स्थिति इसे मादक पदार्थों की तस्करी के लिए एक महत्वपूर्ण पारगमन बिंदु बनाती है।
  • हेरोइन और अफीम मुख्य रूप से अफगानिस्तान और म्यांमार से प्राप्त होता है। इनकी छिद्रपूर्ण सीमाओं के माध्यम से भारत में तस्करी की जाती है।
  • मेथमफेटामाइन और एमडीएमए जैसी सिंथेटिक ड्रग को कृत्रिम रूप से प्रयोगशाला में ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

मुख्य विशेष