उत्तर-पूर्व भारत में जातीय संघर्ष: आंतरिक सुरक्षा पर प्रभाव

उत्तर-पूर्व जातीय और सांस्कृतिक विविधता का मिश्रण है, जिसमें धार्मिक विविधता भी शामिल है। इसके साथ ही उत्तर-पूर्व भारत के राज्य कई दशकों से जातीय हिंसा का सामना कर रहे हैं।

  • नागालैंड, मणिपुर, असम और त्रिपुरा जैसे पूर्वोत्तर राज्यों में 1950-60 के दशक से ही विद्रोह देखने को मिल रहा है।

उत्तर-पूर्व के विभिन्न राज्यों में जातीय संघर्ष

  • असम: राज्य में प्रमुख जातीय संघर्ष 'विदेशियों' यानी बांग्लादेशी और स्थानीय लोगों के बीच है। स्थानीय लोगों और 'विदेशियों' की भाषा और संस्कृति असमिया से काफी अलग है। अवैध प्रवासियों के निर्वासन की मांग को लेकर असम में एक आंदोलन शुरू हुआ।
    • इसके परिणामस्वरूप ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

मुख्य विशेष