द्विपक्षीय निवेश संधियाँ: भारत का दृष्टिकोण और चिंताएँ

द्विपक्षीय निवेश संधियाँ (BIT) दो देशों के बीच समझौते हैं जिनका उद्देश्य एक देश के निवेशकों द्वारा दूसरे देश के क्षेत्र में किए गए निवेश को बढ़ावा देना और उसकी रक्षा करना है।

  • विदेशी निवेश को आकर्षित करने और विदेशी निवेशकों को कानूनी सुरक्षा प्रदान करने के अपने प्रयासों के तहत भारत ने पिछले कुछ वर्षों में कई बीआईटी सम्पन्न किए है।
  • बीआईटी के प्रति भारत का दृष्टिकोण समय के साथ विकसित हुआ है, जो बदलती आर्थिक प्राथमिकताओं और निवेशक-राज्य विवाद निपटान तंत्र के बारे में चिंताओं से प्रेरित है।

बीआईटी के प्रति भारत का दृष्टिकोण

  • विदेशी निवेश को ....

क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

मुख्य विशेष