अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संरचना: समावेशी विकास हेतु व्यापक सुधार

आज की दुनिया में, राष्ट्रीय सीमाएं व्यापार और निवेश के लिए बाधा नहीं हैं। कंपनियां वैश्विक स्तर पर काम करती हैं, पूंजी राष्ट्रीय सीमाओं को पार करती है, और देशों के बीच वित्तीय संबंध पहले से कहीं अधिक जटिल हैं। इस परस्पर जुड़े वातावरण को सुचारू रूप से चलाने के लिए एक मजबूत अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संरचना (IFS) की आवश्यकता होती है। अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संरचना विभिन्न संस्थाओं, नियमों और प्रथाओं का एक जटिल नेटवर्क है जो वैश्विक अर्थव्यवस्था में धन के प्रवाह को सुगम बनाता है। इसका उद्देश्य वित्तीय स्थिरता को बढ़ावा देना, व्यापार और निवेश को प्रोत्साहित करना और सभी ....

क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

मुख्य विशेष