म्यांमार: आसियान के लिए भारत का प्रवेश द्वार

भारत और म्यांमार के बीच सांस्कृतिक, धार्मिक और व्यापारिक संबंधों का एक लंबा इतिहास है जो प्राचीन काल से चला आ रहा है। 1935 तक औपनिवेशिक शासन के दौरान भारत और म्यांमार दोनों ब्रिटिश भारत का हिस्सा थे। स्वतंत्रता के बाद, भारत और म्यांमार ने राजनयिक संबंध स्थापित किए और घनिष्ठ संबंध बनाए रखे। भारत और म्यांमार ने 1951 में मित्रता संधि पर हस्ताक्षर किये।

  • रणनीतिक स्थिति: भारत और म्यांमार बंगाल की खाड़ी में 1,643 किमी लंबी भौगोलिक भूमि सीमा और समुद्री सीमा साझा करते हैं। साथ ही, म्यांमार दक्षिण-पूर्व एशिया के लिए भारत का प्रवेश ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

मुख्य विशेष