ब्रिक्स का विस्तार: भारत के लिए निहितार्थ और चुनौतियाँ

ब्रिक्स (BRICS) एक प्रमुख अंतरराष्ट्रीय गठबंधन है, जिसमें पांच उभरती हुई अर्थव्यवस्थाएं - ब्राजील, रूस, भारत, चीन, और दक्षिण अफ्रीका शामिल हैं। यह संगठन 21वीं सदी में आर्थिक विकास, राजनीतिक सहयोग, और वैश्विक संतुलन को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से स्थापित किया गया था। ब्रिक्स का गठन 2009 में हुआ, जब ब्राजील, रूस, भारत, और चीन ने पहली बार एक सम्मेलन आयोजित किया। 2010 में दक्षिण अफ्रीका के शामिल होने के बाद इसका नाम "ब्रिक्स" हो गया।

भारत के लिए निहितार्थ

ब्रिक्स (BRICS) में नए सदस्यों को शामिल करने के भारत के लिए कई महत्वपूर्ण निहितार्थ हैं। इनमें शामिल हैं:

क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

मुख्य विशेष