वैश्विक दक्षिण: भारत की नेतृत्वकारी भूमिका

आज की बहुध्रुवीय दुनिया में, वैश्विक दक्षिण, विकासशील देशों का एक समूह, अंतरराष्ट्रीय मंचों पर अपनी आवाज बुलंद कर रहा है। इस बदलाव में, भारत एक महत्वपूर्ण नेता के रूप में उभर रहा है।

  • भारत का गुट-निरपेक्ष आंदोलन (NAM) के संस्थापक सदस्यों में से एक होने का गौरवपूर्ण इतिहास रहा है, जो शीत युद्ध के दौरान गुटनिरपेक्षता की नीति को बढ़ावा देता था।
    • स्वतंत्रता के बाद से, भारत ने अफ्रीका, एशिया और लैटिन अमेरिका के देशों के साथ मजबूत संबंध विकसित किए हैं। यह दक्षिण-दक्षिण सहयोग को बढ़ावा देने और विकासशील देशों के बीच ज्ञान और अनुभवों को साझा करने में सक्रिय ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

मुख्य विशेष