भारत का वैश्विक उत्थान और क्षेत्रीय पतन: एक विरोधाभास

भारत वैश्विक स्तर पर एक ‘क्षेत्रीय शक्ति’ से एक ‘वैश्विक आर्थिक एवं सैन्य शक्ति’ के रूप में उभर रहा है।

  • लेकिन कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि भारत को वैश्विक उत्थान के साथ-साथ क्षेत्रीय गिरावट का सामना करना पड़ रहा है।
  • यह स्थिति वास्तव में एक ऐसे विरोधाभास को दर्शाती है, जो दक्षिण एशिया के भू-राजनीतिक परिदृश्य की जटिलताओं को प्रदर्शित करती है।

भारत का वैश्विक उत्थान

  • आर्थिक विकास: भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में से एक के रूप में उभरा है। इसके कारण भारत विदेशी ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

मुख्य विशेष