कृत्रिम रूप से बुद्धिमान मस्तिष्क जैसी प्रणाली का विकास

  • हाल ही में, ‘नेचर मशीन इंटेलिजेंस’ (Nature Machine Intelligence) नामक शोध पत्र में प्रकाशित शोध के अनुसार कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने एक स्व-संगठित, कृत्रिम रूप से बुद्धिमान मस्तिष्क जैसी प्रणाली (Self-organizing, artificially intelligent brain-like system) विकसित की है, जो मानव मस्तिष्क की कार्यक्षमता के प्रमुख पहलुओं का अनुकरण करती है।
  • आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) की शुरुआत 1950 के दशक में हुई थी। AI का अर्थ कृत्रिम रूप से विकसित की गई बौद्धिक क्षमता से है। इसके जरिये कंप्यूटर सिस्टम या रोबोटिक सिस्टम तैयार किया जाता है, जिसे उन्हीं तर्कों के आधार पर चलाने का प्रयास किया जाता है, जिसके ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी