मरुस्थलीकरण की समस्या

  • हाल ही में, मरुस्थलीकरण से निपटने के लिए संयुक्त राष्ट्र अभिसमय (United Nations Convention to Combat Desertification - UNCCD) ने विश्व में मरुस्थलीकरण से संबंधित चेतावनी दी। UNCCD के अनुसार, मानवीय गतिविधियों के कारण रेत और धूल भरी आंधियों के कारण दुनिया प्रतिवर्ष लगभग 1 मिलियन वर्ग किलोमीटर (3,86,000 वर्ग मील) उत्पादक भूमि खो रही है।
  • अनुमानतः हर साल दो अरब टन रेत और धूल वायुमंडल में प्रवेश करती है, जो एशिया और अफ्रीका के बड़े हिस्से में आर्थिक क्षति पहुंचाती है। यूएनसीसीडी ने कहा कि कम से कम एक-चौथाई धूल भरे तूफानों के लिए अत्यधिक खनन और चराई सहित ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी