बच्चों पर जलवायु परिवर्तन का प्रभाव

  • यूनिसेफ के एक विश्लेषण के अनुसार, दक्षिण एशिया में 18 वर्ष से कम उम्र के 347 मिलियन बच्चे अत्यधिक पानी की कमी का सामना कर रहे हैं, जो दुनिया के सभी क्षेत्रों में सबसे अधिक संख्या है। पानी की कमी बच्चों के स्वास्थ्य और विकास को प्रभावित करती है, खाद्य असुरक्षा, कुपोषण और दस्त जैसी अन्य बीमारियों का कारण बनती है।
  • पानी की कमी न केवल बच्चों की भलाई के लिए, बल्कि कृषि, उद्योग और आर्थिक विकास के लिए भी खतरा है। दक्षिण एशिया में पानी की कमी वाले क्षेत्रों में रहने वाले बच्चों को विनाशकारी बाढ़ और लू ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

पर्यावरण एवं पारिस्थितिकी