ई-प्राइम लेयर

  • हाल ही में, विशेषज्ञों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने पृथ्वी के कोर के सबसे बाहरी क्षेत्र के पास एक नई रहस्यमय परत ‘ई-प्राइम लेयर’ के निर्माण की खोज की है। ‘ई-प्राइम लेयर’ की खोज, जर्मनी में आर्गन नेशनल लैब (Argonne National Lab) के एडवांस्ड फोटोन सोर्स (Advanced Photon Source) और डॉयचेस इलेक्ट्रोनन-सिंक्रोट्रॉन के पेट्रा III (Petra III of the Deutsches Elektronen-Synchrotron) में किए गए एक शोध के बाद हुई है। वैज्ञानिकों के अनुसार, यह परत सतही जल के पृथ्वी के अंदरूनी हिस्से में प्रवेश करने की प्रक्रिया से बनी है। यह प्रक्रिया अरबों वर्षों में टेक्टोनिक प्लेटों के जरिए होती ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी