बांग्ला के लिए शास्त्रीय भाषा के दर्जा का आग्रह

  • हाल ही में, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ने केंद्र सरकार से ‘बांग्ला’ को शास्त्रीय भाषा के रूप में शामिल करने का आग्रह किया।
  • किसी भाषा को शास्त्रीय घोषित करने के मानदंड प्राचीनता, समृद्ध साहित्यिक परंपरा, ऐतिहासिक प्रभाव, भाषाई विशिष्टता और सक्रिय सांस्कृतिक अभ्यास पर आधारित हैं। किसी भाषा का शास्त्रीय के रूप में वर्गीकरण केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा निर्धारित किया जाता है।
  • वर्तमान में, 6 भाषाओं को आधिकारिक तौर पर शास्त्रीय के रूप में मान्यता दी गई है - तमिल (2004 में), संस्कृत (2005), तेलुगु और कन्नड़ (2008), मलयालम (2013) और उडि़या (2014)। बांग्ला पश्चिम बंगाल के साथ ही बांग्लादेश की ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

PSC न्यूज बुलेट्स