मधिका भाषा

  • चकलिया समुदाय द्वारा बोली जाने वाली भाषा मधिका तेजी से विलुप्त हो रही है क्योंकि युवा पीढ़ी मलयालम भाषा अपना रही है।
  • मधिका भाषा केरल के कूकनम में चकलिया समुदाय द्वारा बोली जाती है। यह कन्नड़ के समान लगता है, और इसमें तेलुगु, तुलु, कन्नड़ और मलयालम शामिल हैं।
  • चकलिया समुदाय एक समय खानाबदोश थे, और इनका प्रवास कर्नाटक के पहाड़ी क्षेत्रों से केरल के उत्तरी मालाबार में हुआ है।
  • शुरुआत में इन्हें अनुसूचित जनजाति के रूप में मान्यता दी गई, बाद में इन्हें केरल में अनुसूचित जाति श्रेणी में शामिल कर लिया ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

PSC न्यूज बुलेट्स