​लागत मुद्रास्फीति सूचकांक

  • हाल ही में, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ की गणना हेतु वित्तवर्ष 2024-25 के लिए 'लागत मुद्रास्फीति सूचकांक' (Cost Inflation Index:CII) को अधिसूचित किया है।
  • दीर्घकालिक पूंजीगत लाभ 12 से 36 महीने या उससे अधिक समय तक अपने पास रखी गई परिसंपत्तियों को बेचने पर अर्जित किया जाता है।
  • पूंजीगत परिसंपत्तियों में स्टॉक, बॉन्ड, आभूषण, भवन आदि शामिल हैं। अलग-अलग परिसंपत्तियों के लिए पूंजीगत लाभ की गणना की अवधि अलग-अलग होती है।
  • CII को प्रत्येक वर्ष आयकर अधिनियम, 1961 के तहत अनुसूचित किया जाता है।
  • इसका उपयोग करदाताओं द्वारा पूंजीगत परिसंपत्तियों की बिक्री से प्राप्त धन ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

करेंट अफेयर्स न्यूज़