मुरिया जनजाति की डेडा पद्धति

  • छत्तीसगढ़ से गोदावरी घाटी में प्रवास करने वाले मुरिया आदिवासी किसान अभी भी बीजों को संरक्षित करने की पारंपरिक विधि 'डेडा' का प्रयोग कर रहे हैं।
  • डेडा विधि में बीजों को पत्तियों में संरक्षित किया जाता है। पैक किए गए बीजों को सियाली पत्ती (बौहिनिया वाहली) से बुना जाता है।
  • यह कीटों और कीड़ों से बीज की सुरक्षा करता है और संगृहीत बीजों का उपयोग पांच साल तक खेती के लिए किया जा सकता ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

करेंट अफेयर्स न्यूज़