'वैध समारोह के अभाव' में किसी हिंदू विवाह को मान्यता नहीं

  • हाल ही में, सुप्रीम कोर्ट ने एक महत्त्वपूर्ण फैसले में कहा कि 'वैध समारोह के अभाव' में किसी हिंदू विवाह को ‘हिंदू विवाह अधिनियम’ के तहत मान्यता नहीं दी जा सकती।
  • जस्टिस बी.वी. नागरत्ना और जस्टिस ऑगस्टीन जॉर्ज मसीह की पीठ ने कहा कि हिंदू विवाह एक पवित्र संस्कार है, जिसे भारतीय समाज में महान मूल्य की संस्था के रूप में दर्जा दिया जाना चाहिए। इस फैसले के माध्यम से, सर्वोच्च न्यायालय ने 'संस्कार' की प्रथा को मान्यता दी ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

करेंट अफेयर्स न्यूज़