​मेटरियोविजिलेंस प्रोग्राम ऑफ इंडिया (एमवीपीआई) प्लेटफार्म

  • हाल ही में, भारत के औषधि महानियंत्रक (DCGI) द्वारा एक निर्देश जारी किया गया, जिसके अनुसार सभी चिकित्सा उपकरण लाइसेंस धारकों और निर्माताओं को जीवन रक्षक चिकित्सा उपकरणों से संबंधितप्रतिकूल घटना की रिपोर्ट करनी होगी|
  • यह रिपोर्टिंग सरकार के मेटरियोविजिलेंस प्रोग्राम ऑफ इंडिया (MvPI) प्लेटफॉर्म पर किया जाना है।
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने देश में चिकित्सा उपकरणों की सुरक्षा की निगरानी के लिए 2015 में मेटरियोविजिलेंस प्रोग्राम ऑफ इंडिया (MvPI) शुरू करने की मंजूरी दी है।
  • इसका उद्देश्य स्वास्थ्य पेशेवरों या रोगियों/उपयोगकर्ताओं द्वारा चिकित्सा उपकरणों के उपयोग से जुड़ी प्रतिकूल घटनाओं या जोखिमों के मूल कारण की निगरानी और विश्लेषण करना ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

करेंट अफेयर्स न्यूज़