खादी वस्त्रों की विशेषताएँ

  • खादी को 'भारत में सूती, ऊनी या रेशम के धागों से हथकरघे पर बुने गये और हाथ से काते गये किसी भी कपड़े, या दो या सभी धागों के संयोजन' के रूप में परिभाषित किया गया है।
  • खादी क्षेत्र, मीट्रिक गिनती प्रणाली (एस ट्विस्ट यार्न) का पालन करके कताई और बुनाई (हाथ से काता या हाथ से बुना गया) में पारंपरिक तकनीक का उपयोग कर रहा है, जो मिलों/हथकरघा क्षेत्र से पूरी तरह से अलग है।
  • मिलों एवं हथकरघा क्षेत्र में अंग्रेजी गणना प्रणाली के साथ जेड ट्विस्ट यार्न का उपयोग किया जाता है।
  • इसके अलावा, खादी क्षेत्र के कताई और ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

पत्रिका सार