भारतीय हथकरघा उत्पाद और उनका महत्त्व

'इंडिया हैंडलूम ट्रेडमार्क' का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना है कि निर्यातक, समय पर उच्च गुणवत्ता वाले कपड़े खरीदें और भारत के प्रामाणिक तथा हाथ से बुने हुए उत्पादों के लिए एक अनूठी छवि कायम करें।

  • 'भारतीय हथकरघा' उद्योग के प्रमुख उदाहरणों में- पश्मीना (कश्मीर), फुलकारी (पंजाब), चिकनकारी (उत्तर प्रदेश), मूंगा सिल्क (असम), नागा शॉल (नगालैंड), पोचमपल्ली इकत (तेलंगाना), कांचीपुरम साड़ी (तमिलनाडु), मैसूर सिल्क (कर्नाटक), बांधनी (गुजरात), पैठणी (महाराष्ट्र) आदि शामिल हैं।
  • भारत में हथकरघा क्षेत्र कृषि के बाद 3 मिलियन से अधिक लोगों को रोजगार प्रदान करने वाले असंगठित क्षेत्र के रूप में दूसरे नंबर पर है। यह लगभग 24 लाख ....

क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

पत्रिका सार