स्वतंत्रता आन्दोलन के प्रतीक के रूप में खादी उद्योग

ब्रिटिश वस्त्रों से स्वतंत्रता एवं आत्मनिर्भरता प्राप्त करने के लिए वर्ष 1918 में अविभाजित भारत के लोगों के लिए 'खादी' की शुरुआत की गई थी।

  • एक सामाजिक-सांस्कृतिक आख्यान के रूप में खादी आंदोलन को गांधीजी द्वारा मई 1915 में गुजरात के अहमदाबाद जिले में स्थित सत्याग्रह आश्रम से शुरू किया गया था, जिसे साबरमती आश्रम के नाम से जाना जाता है।
  • 'खद्दर' शब्द से व्युत्पन्न, खादी एक हाथ से बुना हुआ सूती कपड़ा है। महात्मा गांधी ने इन कपड़ों की खुरदरी बनावट के कारण उनके लिए खादी शब्द गढ़ा था।
  • खादी को हाथ से अथवा भारतीय चरखे का उपयोग करके ....

क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

पत्रिका सार