भारतीय बुनाई के संबंध में क्षेत्रीय विविधता

आधुनिक भारत में बुनाई की यात्रा का आरंभ देश के सुदूर दक्षिण-पश्चिम में स्थित केरल राज्य से माना जाता है।

  • 19वीं सदी के अंत में रासायनिक रंगों के आगमन से पूर्व तक भारत के सभी भागों में 'श्वेत रंग' बुनाई का प्रमुख आधार था।
  • कई प्रकार के रेशम जिन्हें कश्मीर, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र और आंध्र प्रदेश सहित भारत के अन्य हिस्सों में हाथ से नहीं बुना जाता है; उन्हें कर्नाटक में बेचा जाता है तथा इनको 'डुपियन रेशम' के नाम से जाना जाता है।
  • पोचमपल्ली इकत अथवा साड़ी की उत्पत्ति तेलंगाना राज्य के नलगोंडा जिले से मानी जाती ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

पत्रिका सार