जैव-विविधता संरक्षण में GIS की भूमिका

केवल 2.4% भूमि क्षेत्र वाले भारत में अब तक पौधों की 54,000 से अधिक प्रजातियां और जीवों की 1,03,000 प्रजातियां दर्ज की गई हैं।

  • जैव विविधता के दृष्टिकोण से विश्व के 34 हॉटस्पॉट क्षेत्रों में से चार भारत में स्थित हैं- हिमालय, इंडो-बर्मा, पश्चिमी घाट और सुंडालैंड
  • भारत की जैव-विविधता 10 जैव-भौगोलिक क्षेत्रों में विस्तृत है- ट्रांस हिमालय, हिमालय क्षेत्र, रेगिस्तान, अर्ध शुष्क क्षेत्र, पश्चिमी घाट, दक्कन का पठार, गंगा का मैदान, उत्तर-पूर्व क्षेत्र, तटीय क्षेत्र एवं द्वीप समूह।
  • भौगोलिक सूचना प्रणाली (GIS) एक ऐसी प्रणाली है जो सभी प्रकार के आंकड़ों का निर्माण, प्रबंधन, विश्लेषण और ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

पत्रिका सार