बीमारियों की प्रगति को ट्रैक करने के लिए सेंसर

अप्रैल, 2024 में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) जोधपुर के शोधकर्ताओं द्वारा एक नैनोसेंसर विकसित किया गया है, जो बीमारियों की प्रगति को ट्रैक करने के लिए कोशिकाओं को नियंत्रित करने वाले प्रोटीन के एक समूह 'साइटोकिन्स' का पता लगा सकता है।

  • सेंसर 30 मिनट के भीतर बीमारियों का पता लगाने के लिए 'सेमीकंडक्टर' तकनीक और 'सरफेस एन्हांस्ड रमन स्कैटरिंग' (SERS) का उपयोग करता है।
  • सेंसर के विकास का लक्ष्य विलंबित निदान और प्रारंभिक चेतावनियों की कमी के कारण होने वाली मृत्यु दर को कम करना है।
  • साइटोकिन्स बायोमार्कर होते हैं, जो ऊतक क्षति की मरम्मत करने, कैंसर की स्थिति का पता लगाने तथा ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

पत्रिका सार