समरूपता एक जटिल अवधारणा

  • ज्यामिति, प्रकृति और आकृतियों में समरूपता एक मौलिक अवधारणा है। इसे किसी वस्तु के दो हिस्सों के बीच संतुलित और आनुपातिक समानता के रूप में परिभाषित किया जाता है।
  • सामान्य शब्दों में, यदि कोई वस्तु समरूप है, तो इसका अर्थ यह है कि वह दोनों तरफ से बराबर/समान है।
  • समरूपता को नियमित और अनियमित दोनों आकृतियों के लिए परिभाषित किया जा सकता है। समरूपता द्वारा ऐसे प्रतिरूप निर्मित होते हैं जो हमें अपनी दुनिया को वैचारिक रूप से व्यवस्थित करने में मदद करते हैं।
  • वह काल्पनिक रेखा अथवा अक्ष जिसके अनुदिश समरूप आधे भाग को प्राप्त करने के लिए किसी आकृति को ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

पत्रिका सार