केपटाउन कन्वेंशन

  • हाल ही में कारपोरेट कार्य मंत्रालय द्वारा एक अधिसूचना जारी करते हुए कहा गया है कि ‘इंसॉल्वेंसी एंड बैंकरप्सी कोड (IBC)’ के कुछ प्रावधान विमान, उनके इंजन, एयरफ्रेम और हेलीकॉप्टर पर लागू नहीं होंगे।
  • इससे किसी एयरलाइन कंपनी के दिवालिया होने पर उसकी परिसंपत्तियों विशेषकर- विमान एवं उसके इंजन की रिकवरी आसान हो जाएगी।
  • इस अधिसूचना के साथ भारत सरकार ने आधिकारिक तौर पर केपटाउन प्रोटोकॉल और कन्वेंशन को अपना लिया है। भारत वर्ष 2008 में इस कन्वेंशन का पक्षकार बना था। इस कन्वेंशन का उद्देश्य एयरफ्रेम, हेलीकॉप्टर और इंजन जैसे उच्च मूल्य वाले मोबाइल इंस्ट्रूमेंट का कुशल ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |
अंतरराष्ट्रीय संबंध