संपत्ति हस्तांतरण अधिनियम, 1882 (TPA)

  • हाल ही में, सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि संपत्ति हस्तांतरण अधिनियम, 1882 (TPA) के तहत उधारकर्ता द्वारा प्राप्त किये जाने वाले किराये को ऋणदाता को ‘कार्रवाई योग्य दावे’ (Actionable Claim) के रूप में सौंपा जा सकता है।
  • संपत्ति हस्तांतरण अधिनियम, 1882 भारत में जीवित व्यक्तियों के बीच संपत्ति के हस्तांतरण को नियंत्रित करता है। यह मुख्य रूप से अचल संपत्ति के हस्तांतरण पर लागू होता है; हालाँकि, इस अधिनियम की कुछ धाराएँ और खंड चल संपत्ति के हस्तांतरण से भी संबंधित ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |
राष्ट्रीय परिदृश्य