Civil Services Mains Examination Contributions of Moral Thinkers- GS Paper IV up to 2021


Civil Services Examination-2021


1. "Every work has got to pass through hundreds of difficulties before succeeding. Those that persevere will see the light, sooner or later." - Swami Vivekananda

‘‘प्रत्येक कार्य की सफलता से पहले उसे सैकड़ों कठिनाइयों से गुजरना पड़ता है। जो दृढ़निश्चयी हैं वे ही देर-सबेर प्रकाश को देख पाएंगे।" - स्वामी विवेकानंद


2. "We can never obtain peace in the outer world untill and unless we obtain peace within ourselves." – Dalai Lama

‘‘हम बाहरी दुनिया में तब तक शांति प्राप्त नहीं कर सकते जब तक कि हम अपने भीतर शांति प्राप्त नहीं कर लेते।" - दलाई लामा


3. "Life doesn't make sense without interdependence. We need each other, and the sooner we learn that, it is better for us all." – Erik Erikson

‘‘परस्पर निर्भरता के बिना जीवन का कोई अर्थ नहीं है। हमें एक-दूसरे की जरूरत है और जितनी हम जल्दी इसे सीख लें यह हम सबके लिए उतना ही अच्छा है।" - एरिक एरिक्सन


Civil Services Examination-2020


1. “Condemn none: if you can stretch out a helping hand, do so. If not, fold your hands, bless your brothers, and let them go their own way.” – Swami Vivekanand

‘‘किसी की भर्त्सना नहीं कीजिएः अगर आप मदद का हाथ आगे बढ़ा सकते हैं, तो ऐसा कीजिए। यदि नहीं तो आप हाथ जोड़िए, अपने बंधुओं को आशीर्वचन दीजिए और उन्हें अपने मार्ग पर जाने दीजिए।’’ -स्वामी विवेकानंद


2. “The best way to find yourself is to lose yourself in service of others .” Mahatma Gandhi

‘‘स्वयं को खोजने का सर्वोत्तम मार्ग यह है कि अपने आप को अन्य की सेवा में खो दें।’’ महात्मा गांधी


3. “A system of morality which is based on relative emotional values is a mere illusion, a thoroughly vulgar conception which has nothing sound in it and nothing true.” – Socrates.

‘‘नैतिकता की एक व्यवस्था जो कि सापेक्ष भावनात्मक मूल्यों पर आधारित है केवल एक भ्रांति है, एक अत्यंत अशिष्ट अवधारण जिसमें कुछ भी युक्तिसंगत नहीं है और न ही सत्य।’’ -सुकरात


Civil Services Examination-2019


1. “An unexamined life is not worth living.” – Socrates

एक अपरीक्षित जीवन जीने योग्य नहीं है। सुकरात


2. “A man is but the product of his thoughts. What he thinks, he becomes.” – M.K.Gandhi

व्यक्ति और कुछ नहीं केवल अपने विचारों का उत्पाद होता है। वह जो सोचता है वही बन जाता है। एम.के.गांधी


3. “Where there is righteousness in the heart, there is beauty in the character. When there is beauty in the character, there is harmony in the home. When there is harmony in the home, there is order in the nation. When there is order in the nation, there is peace in the world.” – A.P.J. Abdul Kalam

जहाँ ह्रदय में शुचिता है, वहाँ चरित्र में सुन्दरता है। जब चरित्र में सौन्दर्य है, तब घर में समरसता है। जब घ्रर में समरसता है, तब राष्ट्र में सुव्यवस्था है। जब राष्ट्र में सुव्यवस्था है, तब विश्व में शांति है। ए.पी.जे. अब्दुल कलाम


Civil Services Examination-2018


1. What does each of the following quotations mean to you in the present context?

वर्तमान संदर्भ में निम्नलिखित में से प्रत्येक उद्धरण का आपके विचार से क्या अभिप्राय है


2. “The true rule, in determining to embrace, or reject anything, is not whether it has any evil in it; but whether it has more evil than good. There are few things wholly evil or wholly good. Almost everything, especially of governmental policy, is an inseparable compound of the two; so that our best judgement of the preponderance between them is continually demanded.”– Abraham Lincoln

‘‘किसी भी बात को स्वीकार करने या अस्वीकार करने का निर्धारण करने में सही नियम यह नहीं है कि उसमें कोई बुराई है या नहीं_ बल्कि यह है कि उसमें अच्छाई से अधिक बुराई है। ऐसे बहुत कम विषय होते हैं जो पूरी तरह बुरे या अच्छे होते हैं। लगभग सभी विषय, विशेषकर सरकारी नीति से संबंधित, अच्छाई और बुराई दोनों के अविच्छेदनीय लोग होते हैं_ ताकि इन दोनों के बीच प्रधानता के बारे में हमारे सर्वोत्तम निर्णय की आवश्यकता हमेशा बनी रहती है।’’ - अब्राहम लिंकन


3. “Anger and intolerance are the enemies of correct understanding.” – Mahatma Gandhi

‘‘क्रोध और असहिष्णुता सही समझ के शत्रु हैं।’’ -महात्मा गांधी


4. “Falsehood takes the place of truth when it results in unblemished common good.” – Tirukkural

‘‘असत्य भी सत्य का स्थान ले लेता है यदि उसका परिणाम निष्कलंक सार्वजनिक कल्याण हो।’’ -तिरुक्कुरल


5. “Great ambition is the passion of a great character. Those endowed with it may perform very good or very bad acts. All depends on the principles which direct them.” – Napoleon Bonaparte.Stating examples mention the rulers

‘‘बड़ी महत्वाकांक्षा महान चरित्र का भावावेश (जुनून) है जो इससे संपन्न है वे या तो बहुत अच्छे अथवा बहुत बुरे कार्य कर सकते है। यह सब कुछ उन सिद्वांतों पर आधारित है जिससे वे निर्देशित होते है।’’ नेपोलिन बोनापार्ट का उदाहरण देते हुए उन शासकों का उल्लेख कीजिये जिन्होंने

(i) who have harmed society and country,

समाज व देश का अहित किया है।

(ii) who worked for the development of society and country.

समाज व देश के विकास के लिए कार्य किया हो।


Civil Services Examination-2017


1. “If a country is to be corruption free and become a nation of beautiful minds, I strongly feel there are three key societal members who can make a difference. They are the father, the mother and the teacherS. – A.P.J. Abdul Kalam. Analyse.

‘‘मेरा दृढ़ विश्वास है कि यदि किसी राष्ट्र को भ्रष्टाचार मुक्त और सुंदर मनों वाला बनाना है तो उसमें समाज के तीन प्रमुख लोग अंतर ला सकते है। वे हैं पिता, माता, एवं शिक्षक’’- ए.पी.जे. अब्दुल कलाम। विश्लेषण कीजिये।


Civil Services Examination-2016


1. Discuss Mahatma Gandhi’s concept of seven sins.

महात्मा गांधी की सात पापों की संकल्पना की विवेचना कीजिए।


2. “Max Webar said that it is not wise to apply to public administration the sort of moral and ethical norms we apply to matters of personal conscience. It is important to realize that the state bureaucracy might possess its own independent bureaucratic morality.” Critically analyse this statement.

‘‘मैक्स वैबर ने कहा था कि जिस प्रकार के नैतिक प्रतिमानों को हम व्यक्तिगत अंतरात्मा के मामलों पर लागू करते हैं, उस प्रकार के नैतिक प्रतिमानों को लोक प्रशासन पर लागू करना समझदारी नहीं है। इस बात को समझ लेना महत्वपूर्ण है कि हो सकता है कि राज्य के अधिकारीतंत्र के पास अपनी स्वयं की स्वतंत्र अधिकारीतंत्रीय नैतिकता हो।’’ इस कथन का समालोचनापूर्वक विश्लेषण कीजिए।


Civil Services Examination-2013


1. What is ‘emotional intelligence and how can it be developed in people? How does it help an individual in taking ethical decisions?

‘‘भावात्मक प्रज्ञता’’ क्या होता है और यह लोगों में किस प्रकार विकसित किया जा सकता है? किसी व्यक्ति विशेष को नैतिक निर्णय लेने में यह कैसे सहायक होता है?


2. Given below are three quotations of great moral thinkers/philosophers. For each of these quotations, bring out what it means to you in the present context:

तीन महान नैतिक विचारकों/दार्शनिकों के अवतरण नीचे दिए गए हैं। आपके लिए प्रत्येक अवतरण का वर्तमान सन्दर्भ में क्या महत्व है, स्पष्ट कीजिएः


3. “There is enough on this earth for every one’s need but for no one’s greed.” Mahatma Gandhi.

‘‘पृथ्वी पर हर एक की आवश्यकता-पूर्ति के लिए काफी है पर किसी के लालच के लिए कुछ नहीं’’ -महात्मा गांधी


4. “Nearly all men can withstand adversity, but if you want to test a man’s character, give him power.”—Abraham Lincoln.

‘‘लगभग सभी लोग विपत्ति का सामना कर सकते हैं पर यदि किसी के चरित्र का परीक्षण करना है, तो उसे शक्ति/अधिकार दे दो।’’-अब्राहम लिंकन


5. “I count him braver who overcomes his desires than him who overcomes his enemies.”—Aristotle.

‘‘शत्रुओं पर विजय पाने वाले की अपेक्षा मैं अपनी इच्छाओं का दमन करने वाले को अधिक साहसी मानता हूं।’’- अरस्तू