Forum IAS
Current Affairs
Risa, Rignai & Rikutu: Customary Tripuri Attaire

The government of Tripura is trying to weave the Risa into its policy for self-employment.As of 2018, Tripura had 1,37,177 handloom weavers, according to the National Handloom Census, with 60 ...

Jerenga Pothar: A Notable Chapter Of Ahom History

PM Narendra Modi addressed an event at Sivasagar's Jerenga Pothar, an open field where the legendary Joymati sacrificed her life for her husband in the 17th century.Formerly known as Rangpur, ...

Global Risk Report 2021

The Global Risk Report 2021 has been released by the World Economic Forum in collaboration with Zurich Insurance, Marsh McLennan and SK Holdings. The report cautions the world against the next ...

Karnataka’s First Wolf Sanctuary

Karnataka will soon get its first Indian Grey Wolf sanctuary in Koppal district of Kalyana-Karnataka region.Besides wolves, the area will also provide conservation of striped hyena, Indian fox, golden jackal ...

Climate Change Will Alter Earth's Tropical Rain Belt

Future climate change will cause a regionally uneven shifting of the tropical rain belt -- a narrow band of heavy precipitation near the equator -- according to researchers at the ...

Indian Astrophysicists Spot UV-bright Stars In NGC 2808

Scientists from the Indian Institute of Astrophysics (IIA) have spotted rare hot UV-bright stars in the massive globular cluster NGC 2808 of our Milky Way Galaxy.UV-bright stars have been distinguished ...

India Innovation Index-2020

NITI Aayog has released the second edition of the India Innovation Index-2020.ObjectiveThe objective of the India Innovation Index is to scrutinize the innovation capacities and performance of Indian states. The ...

सामयिक खबरे*
कोयला मंत्री पुरस्कार 2020

केंद्रीय कोयला और खान मंत्री प्रहलाद जोशी ने 21 जनवरी, 2021 को नई दिल्ली में आयोजित एक समारोह में कोल इंडिया लिमिटेड की तीन कंपनियों - नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (एनसीएल), ...

भारत नवाचार सूचकांक 2020

नीति आयोग ने 20 जनवरी, 2021 को भारत नवाचार सूचकांक 2020 जारी किया।महत्वपूर्ण तथ्य: रिपोर्ट में राज्यों और केंद्र-शासित प्रदेशों की नवाचार क्षमताओं और प्रदर्शन को मापा गया है। यह ...

गुजरात सरकार का 'ड्रैगन फ्रूट' का नाम बदलकर 'कमलम' रखने का फैसला

जनवरी 2021 में गुजरात सरकार ने 'ड्रैगन फ्रूट' (dragon fruit) का नाम बदलकर 'कमलम' रखने का फैसला किया है। 'कमलम' शब्द एक संस्कृत शब्द है। मुख्यमंत्री विजय रूपानी के ...

कृष्णन शशिकिरण ने जीता रिल्टन विनर्स कप का खिताब

भारतीय ग्रैंड मास्टर कृष्णन शशिकिरण ने शतरंज का रिल्टन विनर्स कप 2020-21 खिताब जीत लिया। उन्होंने इस प्रतियोगिता के फाइनल मुकाबले में रूसी ग्रैंड मास्टर अलेक्जेंडर शिमानोव को 2-0 से ...

श्रीलंकाई क्रिकेटर शेहान जयसूर्या ने लिया संन्यास

8 जनवरी‚ 2021 को श्रीलंका के 29 वर्षीय क्रिकेटर शेहान जयसूर्या ने श्रीलंका क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा की। उन्होंने अपने परिवार के साथ अमेरिका में रहने का ...

कोमरोन तुर्सुनोव ने किया आई लीग फुटबॉल टूर्नामेंट के इतिहास का सबसे तेज गोल

टिडिम रोड एथलेटिक यूनियन (TRAU) के तजाकिस्तान के फॉरवर्ड कोमरोन तुर्सुनोव ने 10 जनवरी‚ 2021 को ‘आई लीग फुटबॉल टूर्नामेंट’ के इतिहास का सबसे तेज गोल किया। तुर्सुनोव ने ...

एयरटेल सेफ पे

एयरटेल ग्राहकों को ऑनलाइन भुगतान धोखाधड़ी की बढ़ती घटनाओं से बचाने के लिए, एयरटेल पेमेंट्स बैंक ने डिजिटल रूप से भुगतान करने का एक सुरक्षित तरीका 'एयरटेल सेफ पे' ...

Vision IAS
Current Questions

Consider the following statements with reference to the Forest Rights Act, 2006:

  1. The Act recognizes and vests the forest rights and occupation in Forest land in forest Dwelling Scheduled Tribes (FDST) and Other Traditional Forest Dwellers (OTFD) who have been residing in such forests for generations.
  2. The Act identifies three types of Rights: Title Rights, Use Rights and Relief and Development Rights.
  3. Under the Act, Forest Rights can also be claimed by any member or community who has for at least three generations (75 years) prior to the 13th day of December, 2005 primarily resided in forest land for bona fide livelihood needs.

Which of the statement(s) given above is/are correct? Choose the correct answer from the code given below:

A
1 and 2
B
2 and 3
C
1 and 3
D
1, 2 and 3

सामयिक प्रश्न

किसने अमेरिकी सेना के पहले मुख्य सूचना अधिकारी (CIO) के रूप में पदभार संभाल लिया है?

A
जेनेट येलेन
B
विवेक मूर्ति
C
रीना टंडन
D
राज अय्यर

Explained Socio-Economic Development
Success Sutra
FAQ Tips & Tricks

Be Your Own Teacher

  • UPSC preparation is very long and tedious process, which is further made difficult by an ever expanding syllabus and lack of time on the part of the aspirants. Considering this, depending upon one teacher, guide, mentor or even a single coaching class material is not going to help you cross the line. You should transform yourself into your own teacher, who is able to develop questions as a student and answer them as well using reference materials and study materials. Adopting this dual-role approach to your preparation methodology will help gain confidence along with helping you with subjective studies. If you inculcate this habit for the long run, you will get into the mode of self-study to solve any question that arises in your mind about any topic.

सफलता के सूत्र
सामान्य प्रश्न ,ट्रिप्स और

सफलता के लिए आखिर सही रणनीति क्या होनी चाहिए?

आईएएस परीक्षा में यदि सफल होना है, तो पहली एवं सबसे प्राथमिक शर्त तो यही है कि आपको अपने बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिये अर्थात ‘अपनी क्षमता मूल्यांकन का सूक्ष्म परीक्षण’ (Diagnosing self assessment abilities)।’ जानकारी जुटाने से लेकर सफल होने तक के तीन चरण हैं। वस्तुतः ये चरण ठीक उसी तरह हैं जिस तरह एक डॉक्टर किसी मरीज के साथ करता है। ये चरण हैं-

1.             केस स्टडी

2.             निदान या डायग्नोसिस

3.             इलाज या ट्रीटमेंट।

केस स्टडी से तात्पर्य है कि आपको अपने बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिये। यह ‘खुद को जानों’ वाला चरण है। खुद को जानने से मतलब है ‘आत्मकथा’ लेखक की तरह अपनी सारी सच्चाइयाें को निष्पक्ष एवं बेबाकी से बयां कर देना और कुछ भी नहीं छिपाना। यह अपनी क्षमता का परीक्षण के समान है। तात्पर्य यह कि आपको अपनी सारी अच्छाइयों एवं कमजोरियों का ज्ञान एवं एहसास होना चाहिये। यहां अच्छाइयों एवं कमजोरियों का संबंध आईएएस परीक्षा के संदर्भ में हैं। इसके लिए खुद का अध्ययन या सूक्ष्म परीक्षण आवश्यक है। अपनी कमजोरियों या निर्बल पक्षों को जानना इतना आसान भी नहीं है। इसके लिए अपने बारे में सारी सूचनाएं संग्रह करनी होगी और सिविल सेवा परीक्षा की आवश्यकताओं से उसका तालमेल बिठाना होगा। यह तभी संभव है जब आप परीक्षा एवं उसके  प्रत्येक चरण की बारीकियों से आप सुपरिचित हों।

दूसरा चरण है डायग्नोसिस या निदान की। यही सबसे महत्वपूर्ण चरण है। डायग्नोसिस या निदान का मतलब होता है ‘समस्या को जानना’। चिकित्सा की भाषा में यह इसे ‘रोग की पहचान’ है और आईएएस परीक्षा की भाषा में ‘निर्बल पक्षों’ का पूरा ज्ञान। इस बिंदु तक पहुंचने में प्रथम चरण में जुटायी गयी सूचनाएं कार्य करती है। जब आप खुद का निष्पक्ष मूल्यांकन कर लेते हैं तब आपके पास आपका सारा खाका सामने होता है जिसके बल पर आप जान जाते हैं कि आपकी समस्या क्या है और आपको करना क्या है?

तीसर चरण है इलाज या ट्रीटमेंट की। एक बार समस्या या निर्बल पक्षों को जानने के पश्चात उसके समाधान की प्रक्रिया आरंभ होती है ठीक उसी प्रकार जिस प्रकार एक डॉक्टर किसी मरीज की बीमारी जानने के पश्चात उसका इलाज आरंभ करता है। जब आप सिविल सेवा परीक्षा की सारी प्रक्रियाओं एवं आवश्यकताओं से सुपरिचित हो जाते हैं तो आपका बल उन कमजोरियों को दूर करने की होती है या होनी चाहिये जिसे दूर किये बिना सिविल सेवा परीक्षा में सफल होना कठिन होता है।

अतएव उपर्युक्त तीनों प्रक्रिया का सार यही है कि परीक्षा में शामिल होने से पूर्व खुद की क्षमता का सूक्ष्म स्तर पर संपूर्ण निष्पक्ष मूल्यांकन जरूरी है। यह मूल्यांकन संभव है पर खुद से खुद का निष्पक्ष मूल्यांकन आसान भी नहीं है। आपको भीड़ से अलग करने में आपके गुरु/मार्गदर्शक की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। वे अंधकार मार्ग में प्रकाश दिखाने का कार्य करते हैं। जिस तरह कोई व्यक्ति अपने इलाज के लिए क्लिनिक में डॉक्टर के पास जाता है ठीक उसी प्रकार सिविल सेवा परीक्षा रूपी महासागर को सफलता पूर्वक तैरकर पार करने के लिए गुरू के मार्गदर्शन रूपी नैया की भी जरूरत होती है। उन्हें पूर्व में कई शिष्यों को महासागर पार कराने का अनुभव जो होता है। जाहिर है कि शिक्षक या मार्गदर्शक न केवल आपका सटीक आकलन करने में सफल होते हैं वरन् आपका मूल्यांकन कर कमजोर पक्षों को दूर करने का इलाज भी बताते हैं और उस प्रक्रिया में शामिल होते हैं। यदि आपने खुद की क्षमता का सटीक मूल्यांकन कर लिया तो फिर आईएएस परीक्षा में प्रथम प्रयास में ही सफल होना असंभव नहीं रह जाता। हिंदी माध्यम के छात्र यहीं गलती कर बैठते हैं। ‘क्रॉनिकल आईएएस अकेडमी’ आज उसी गुरु या सफल मार्गदर्शक की भूमिका में है, जहां आपकी गलती करने की संभावना को शून्य कर देता है।

DIAS
Historica Academy
Chronicle English Books

Magazine

Main Title Here

समसामयिकी क्रॉनिकल फरवरी 2021

Product Type : Print Edition Shipment : 30
30
View
Main Title Here

Civil Services Chronicle February 2021

Product Type : Print Edition Shipment : Free
100
View
Main Title Here

सिविल सर्विसेज क्रॉनिकल जनवरी 2021

Product Type : Print Edition Shipment : Free
125
View
Main Title Here

Civil Services Chronicle January 2021

Product Type : Print Edition Shipment : Free
100
Out Of Stock View
Main Title Here

समसामयिकी क्रॉनिकल जनवरी 2021

Product Type : Print Edition Shipment : 30
30
Out Of Stock View
Main Title Here

सिविल सर्विसेज क्रॉनिकल दिसंबर 2020

Product Type : Print Edition Shipment : Free
125
View
Main Title Here

Civil Services Chronicle December 2020

Product Type : Print Edition Shipment : Free
100
View
Main Title Here

समसामयिकी क्रॉनिकल दिसंबर 2020

Product Type : Print Edition Shipment : 30
30
View
Main Title Here

सिविल सर्विसेज क्रॉनिकल नवंबर 2020

Product Type : Print Edition Shipment : Free
125
View

Books

Main Title Here

Explained Socio-Economic Development

Product Type : Hard Copy Shipment : Free
300
View
Main Title Here

क्रॉनिकल इयरबुक 2020

Product Type : Hard Copy Shipment : Free
215
Out Of Stock View
Main Title Here

Chronicle Year Book 2020

Product Type : Hard Copy Shipment : Free
300
Out Of Stock View
Main Title Here

भूगोल (प्रश्नोत्तर रूप में) 2020

Product Type : Hard Copy Shipment : Free
400
Out Of Stock View