UPPCS (Main) Questions for राजनीति विज्ञान और अंतरराष्ट्रीय संबंध (द्वितीय प्रश्न पत्र)1990


निर्धारित समय : {तीन घण्टे} {पूर्णांक : 250}

नोटः-

  1. प्रथम एवं षष्ठ तथा अन्य किन्हीं तीन प्रश्नों के उत्तर दीजिये, जिनमें प्रत्येक भाग से कम से कम एक प्रश्न हों।
  2. सभी प्रश्नों के अंक समान हैं।

खण्ड-अ (Section-A)

  1. अन्तरराष्ट्रीय व्यवस्था जिस रूप में आज है, की प्रकृति की विवेचना कीजिये।
  2. Discuss the nature of the international system as it obtains today.
  3. समझाइये कि राष्ट्रों की विदेश-नीतियों में ‘राष्ट्रीय हित में वृद्धि’ किस प्रकार होती है।
  4. Explain how 'national interest' undergoes 'extension' in nations foreign policies.
  5. सामूहिक सुरक्षा की अवधारणा की व्याख्या कीजिये। संयुक्त राष्ट्र के अन्तर्गत इसने किस प्रकार कार्य किया है?
  6. Explain the concept of Collective Security. How has it worked under the United Nations?
  7. हाल के वर्षों में नाभिकीय निःशस्त्रीकरण के क्षेत्र में हुई प्रगति की विवेचना कीजिए। पूर्ण नाभिकीय निःशस्त्रीकरण के मार्ग में मुख्य बाधाएं क्या हैं?
  8. Discuss the progress made in the field of nuclear disarmament in recent years. What are the main obstacles in the way to total nuclear disarmament?
  9. गुट निरपेक्ष आन्दोलन की प्रकृति तथा दिशा का विवेचन कीजिये।
  10. Discuss the nature and direction of the non-aligned movement.

    खण्ड-ब (Section-B)

  11. क्या आपकी राय में गोर्वाच्योद ने सोवियत विदेश-नीति में क्रांतिकारी परिवर्तन ला दिया है? तर्क सहित उत्तर दीजिए।
  12. राजीव गांधी के नेतृत्व में भारत की विदेश नीति का आलोचनात्मक मूल्यांकन प्रस्तुत कीजिये।
  13. Attempt a critical appraisal of India's foreign policy under Rajiv Gandhi.
  14. विभिन्न रूप में तथा विभिन्न तरीकों से अफ्रीका के अनेक भागों में साम्राज्यवाद अब भी क्रियाशील है।ष् परीक्षण कीजिये।
  15. "In various forms and by different method. Imperialism is still operative in several parts of Africa." Examine .
  16. द्वितीय विश्व युद्ध के उपरान्त अमरीकी विदेश-नीति के क्या मुख्य आधार थे? अब उनमें क्या परिवर्तन हो रहे हैं?
  17. माओ के उपरान्त चीन की विदेश नीति की प्रमुख प्रवृत्तियों की विवेचना कीजिए।
  18. Point our major trends in China's foreign policy after Mao.