UPPCS Mains Questions for GEOGRAPHY (Second Paper) 1998


Time : Three hours] [Maximum Marks : 250

सूचना:-

  1. कुल पाँच प्रश्नों के उत्तर दीजिये। अभ्यर्थी प्रश्न संख्या 1 एवं 6 तथा शेष में से तीन प्रश्न हल करें, जिनमें प्रत्येक खण्ड से कम से कम एक प्रश्न अवश्य हो।
  2. सभी प्रश्नों के अंक समान हैं।
  3. स्वच्छ रेखाचित्रों एवं आरेखों के लिये विशेष महत्व दिया जायेगा।

खण्ड-अ (Section-A)

  1. अपनी उत्तर पुस्तिका के एक पृष्ठ के अधिकांश भाग को घेरते हुए भारत का एक रेखा मानचित्र बनाइए तथा उस पर निम्नांकित को दर्शाइए:
    (अ) उज्जैन, एजोल, कलपक्कम, औली, टिहरी।
    (ब) प्रायद्वीपीय भारत की अन्तर्राज्यीय, जलागम वाली तीन नदियाँ।
    (स) सिंगरौली, खेतड़ी, बैलाडीला, डिगबोई एवं बालाघाट।
    (द) मैकाल श्रेणी, नीलगिरि, गारो पहाड़ियाँ, पालनी पहाड़ियाँ एवं जस्कर श्रेणी।
  2. Draw an outline map of India covering the major portion of a page of your answer-book and mark the following on it :
    (a) Ujjain, Aizol, Kalpakkam Auli, Tehri.
    (b) Three rivers of Peninsular India with inter-state catchments.
    (c) Singrauli, Khetri, Bailadila, Digboi and Balaghat.
    (d) Maikal range, Nilgirl, Garo hills, Palani hills and Zaskar range.
  3. नवीन सिद्धान्तों के सन्दर्भ में भारतीय ग्रीष्म मानसून की उत्पत्ति की विवेचना कीजिये।
  4. Discuss the origin of Indian Summer Monsoon with reference to recent theories.
  5. भारत में नगरीकरण की प्रवृत्ति की विवेचना कीजिये तथा उससे जुड़ी समस्याओं के निराकरण हेतु समाधान की रूपरेखा प्रस्तुत कीजिये।
  6. Discuss the trend of urbanization and present a blueprint for the solution of the attendant problems.
  7. भारत में सिंचाई की सुविधा की प्रादेशिक भिन्नता तथा कृषि के विकास पर इसके प्रभाव का विश्लेषण कीजिये।
  8. Analyse the regional variation in irrigation facilities and its impact on agricultural development in India.
  9. भारत में गैर परम्परागत ऊर्जा की सम्भाव्यता एवं विकास के प्रादेशिक स्वरूप का ऊर्जा संकट निवारण के सन्दर्भ में परीक्षण कीजिये।
  10. Examine the regional pattern of the potential and development of non-conventional energy in India in the context of tacking the energy crisis.

    खण्ड-ब(Section-B)

  11. भारत में औद्योगिक संश्लिष्टों के उद्भव-विकास का विश्लेषण कीजिये तथा उन पर उदारीकरण नीति के प्रभाव दर्शाइये।
  12. Analyse the origin and growth of industrial complexes in India and highlight the impact of liberalisation policy on them.
  13. भारत के विदेशी व्यापार नीति की चर्चा कीजिये तथा विदेशी व्यापार की वर्तमान अवस्था का विश्लेषण कीजिये।
  14. Discuss the international trade policy of India and discuss the present state of international trade.
  15. विकास की प्रादेशिक असमानता को कैसे आंका जाता हैघ् समसामयिक भारत के विकास के स्तर में पाये जाने वाले प्रादेशिक अन्तर की विवेचना कीजिये।
  16. How regional disparity in development is measured? Discuss spatial variation in level of development in contemporary India.
  17. हिन्द महासागर के भूराजनीतिक महत्व का मूल्यांकन कीजिये।
  18. Evaluate the geopolitical significance of the Indian Ocean.
  19. निम्नलिखित में से किन्हीं दो पर संक्षिप्त टिप्पणियाँ लिखिए:
    (अ) भारत में बंजर भूमि सुधार।
    (ब) उत्तर प्रदेश में पहाड़ी क्षेत्रों में जल-विद्युत उत्पादन की सम्भावनाएँ एवं समस्यायें।
    (स) संविकास (इकोडेवलपमेंट) के नियोजन प्रारूप।
  20. Write short notes on any two of the following:
    (a) Wastelands reclamation in India.
    (b) The potential and problems of hydroelectricity generation in U.P. hills.
    (c) Outline of planning for ecodevelopment.