पाठ्यपुस्तकों पर कॉपीराइट का दावा

  • हाल ही में, आंध्र उच्च न्यायालय द्वारा दिए गए निर्णय के अनुसार गणित और विज्ञान से जुड़ी पाठ्यपुस्तकों पर कॉपीराइट का दावा नहीं किया जा सकता, क्योंकि उनकी सामग्री को साहित्यिक नहीं माना जाता है।
  • कॉपीराइट अधिनियम, 1957 के तहत, पुस्तकों को मौलिक साहित्यिक कृति माना जाता है और उन्हें कानूनी संरक्षण दिया जाता है।
  • कॉपीराइट का तात्पर्य साहित्यिक, नाटक, संगीत, फिल्म और कलात्मक कार्यों के रचनाकारों और निर्माताओं को प्रदान किया गया कानूनी अधिकार ....
क्या आप और अधिक पढ़ना चाहते हैं?
तो सदस्यता ग्रहण करें
इस अंक की सभी सामग्रियों को विस्तार से पढ़ने के लिए खरीदें |

पूर्व सदस्य? लॉग इन करें


वार्षिक सदस्यता लें
सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल के वार्षिक सदस्य पत्रिका की मासिक सामग्री के साथ-साथ क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स पढ़ सकते हैं |
पाठक क्रॉनिकल पत्रिका आर्काइव्स के रूप में सिविल सर्विसेज़ क्रॉनिकल मासिक अंक के विगत 6 माह से पूर्व की सभी सामग्रियों का विषयवार अध्ययन कर सकते हैं |

PSC न्यूज बुलेट्स